Thoughts on economics and liberty

हमारे पतन का कारण हम स्वयं हैं| सामर्थ्या है तो उठ कर दिखाओ!

FTI मेम्बर आर्यन नें यह youtube video facebook में circulate की:

बहुत साल पहले मैंने इस video को दूरदर्शन पे देखा था| बहुत popular था यह TV  serial |
 
चाणक्य का हमारे इतिहास में कोई मिसाल नहीं है| एक व्यक्ति नें सारे भारत को ऐसा एकजुट किया जैसा फिर दोबारा सरदार पटेल नें शायद किया, परन्तु चाणक्य के पास केवल विचार थे, कोई अस्त्र शास्त्र नहीं|
 
चाणक्य नें उपर्युक्त शब्दों का प्रयोग किया हों या नहीं, इन विचारों का आज भी (आज specially) उतना ही महत्व है जितना 2300 वर्ष पहले था:
 
हमारे पतन का कारण हम स्वयं हैं|
समर्थया है तो उठ के दिखाओ!
 
किस नें तुम्हें रोक रक्खा है?


Freedom Team of India नें भारत को एक बार फिर सोने की चिढ़िया बनाने का निर्णय लिया है|
Please follow and like us:

Sanjeev Sabhlok

View more posts from this author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 

Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial