Untitled

India! I dare you to be rich

Category Archive: Books

Please help find Panchanan Maheshwari’s preface to the NCERT 5-volume textbook on biology

I receive this comment a short while ago:

The author of those classic biology volumes is Panchanan Maheshwari, who was the professor in the Dept. of Botany, University of Delhi. As you say, the preface to those volumes was excellent, where he talks about the really bad standard of biology textbooks in India at that time. (I, too, am looking for that preface and will send that to you if I find it.) I bought those books from Delhi's kabadi bazar–since they had gone long out of print at the time when I was about to enter the middle school. Volume 5 had a chapter on evolution, and that's what created my interest in paleontology, which I pursued for research before moving to the oil industry. Sadly, by the time I entered grades 11-12 (PU, Chandigarh), I ended up studying exactly the same archaic syllabus and books that Prof. Maheshwari lamented: it seemed as if the science of biology (which changes very fast) had not moved past the early 1900s. One of the things those biology volumes had was a "Further Reading" section at the end of each chapter–introducing me to journals like "Scientific American", "Nature", "Science", and "Understanding Science" (now extinct). (BTW, the biology syllabi in India for BSc is still unchanged for decades–colleges/universities there still treat botany and zoology as separate rather than having an integrated life sciences approach).

Here are a few links on Prof. Maheshwari:

http://en.wikipedia.org/wiki/Panchanan_Maheshwari

http://www.currentscience.ac.in/Volumes/104/04/0527.pdf

https://archive.org/stream/introductiontoem00mahe/introductiontoem00mahe_djvu.txt

http://link.springer.com/article/10.1007%2FBF02835800#page-1

Would appreciate if anyone can find the preface, digitise it and publish it/send it to me for publication.

 

 

Continue Reading

“Kautilya: The True Founder of Economics” – a book by Balbir Sihag, has just been published

Prof. Sihag has written extensively on Chanakya (also known as Kautilya). I've discussed many of his writings on this blog. His book "Kautilya: The True Founder of Economics" has now been published.

Prof Sihag was writing this book last year when he spoke at India International Centre and met a few FTI members.

It is now available here:

http://www.vitastapublishing.com/
http://westernbookdepot.com/product.php?catid=279&cn=

The publisher is making it available also through
Amazon.com
Flipkart
Infibeam
and all online stores.

(Currently it is not available on Amazon, Flipkart, Infibeam).

I'll write more as soon as I get hold of it.

ADDENDUM

Available also here:

Continue Reading
Continue Reading

The absurdity of socialism: B.Harishchandra’s अंधेर–नगरी (Taka ser bhaji, taka ser khaja)

Bharatendu Harishchandra (1850–1885) lived a mere 35 years but his writings are still considered masterpieces in Hindi. I wish I had more time to read. But this play, often played in schools and colleges across India, should be analysed for the outstanding political lesson it imparts. Basically, in this land the price of vegetable bhaji is the same as kaju (cashew). 

"The political Andher nagari i.e. City of Darkness in 1881 (अंधेर नगरी ) -One of the most popular plays of modern Hindi drama. Translated and performed in many Indian languages by prominent Indian directors like B. V. KaranthPrasannaArvind Gaur and Sanjay Upadyaye.Andher nagari is a powerful political satire with universal appeal." [Wikipedia]

I'm reproducing his play in Hindi first [Source - full source here]. Then I will comment briefly regarding what it implies for India's policy and governance frameworks. But first, an English translation:

Andheri Nagari Chaupat Raja – translated by SS Misri

A boy once seeks the advice of his guru about going to a certain country to seek his living. The guru tells him not to go there by saying one line about that country "Andheri nagri Chaupat raja; takeh ser bhaji, takeh ser khaja". He tells the boy that there is one fixed price for spinach and dates and everything. The citizens lack intelligence and it is an undesirable place to live. The young and unwise boy goes anyway.

In this strange land, one night four brothers plan a theft and try to breach the wall of the house of a rich family. The thieves bring the wall down, and in the process are killed by the falling bricks. The mother of the thieves is angry and files a lawsuit in the court. In arguing her case before the judge, she claims that her sons were merely following their profession and the wrongly constructed wall caused their death, for which the homeowner is liable. The judge following the strange code of justice asks the homeowner why he should not be sentenced to death for the loss of the thieves' lives. The frightened homeowner uses the defense that those who constructed the wall are the guilty party and thus frees him. The bricklayer is then summoned to the court and he says it is not his fault as he did his job well and the cement must have been of poor quality. The wrath of the judge and his distorted justice then descends on the cement mixer. He is accused of pouring too much water during mixing. The cement maker admits that it happened, but attributes it to his talks and greeting of the passing Mullah. While greeting the mullah he forgot the mixing ratio of the cement and thus diluted weak cement. The judge calls the Mullah in. The honest man has no excuse and the judge pronounces death by hanging for the convicted Mullah. The country’s legally fixed size noose is brought to string up the guilty offender. Whatever the fault of the Mullah, he is a god-fearing man who has not done any sin. He is quite thin and lean. His neck is thin and his head on the small side. The noose kept slipping off his head and neck. The irritated judge then gives a decision that since the circumference of the noose is unalterable by the national religious code, the only way for justice to be done, is to hang the first person whom the noose fits.

The fat newly arrived boy who is feasting on the cheap dates is watching the show. His stout neck fits the noose. He is to be hanged in the public square next morning. The desperate disciple boy sent an urgent message to his guru. The guru quickly arrives early morning at the public square and creates uproar by insisting that he be hanged instead of the disciple boy. The judge was taken aback at this strange demand, and, even the Mullah suspected some mystery. They kept asking the guru for the reason and he refused. The judge then threatened him that if he refused he would be beheaded. The guru pleaded that he must be hanged. The guru confessed that on this day of the new moon, anyone who is hanged goes straight to heaven and is guaranteed double his share of beautiful virgins. The judge (Qadi), then insisted since he is the judge, he has to decide who should be hanged. The judge decides ‘ he’ (judge) be hanged  himself. In the meantime the news reaches the king. He repairs the scene and uses his monkey to be hanged. The relieved guru and disciple promptly cross the borders of the strange kingdom, vowing never to return again.

अंधेर नगरी चौपट्ट राजा टके सेर भाजी टके सेर खाजा

प्रथम दृश्य

[बाह्य प्रांत] 

[मंहत जी दो चेलों के साथ गाते हुए आते हैं]

सब- राम भजो राम भजो राम भजो भाई, राम के भजे से गनिका तर गई, राम के भजे से गीध गति पाई। राम के नाम से काम बनै सब,राम के भजन बिनु सबहि नसाई।। राम के नाम से दोनों नयन बिनु सूरदास भए कबिकुलराई। राम के नाम से घास जंगल की, तुलसीदास भए भजि रघुराई ।। महंत- बच्चा नारायण दास! यह नगर तो दूर से बडा सुंदर दिखलाई पडता है! देख, कुछ भिच्छा उच्छा मिलै तो ठाकुर जी को भोग लगै। और क्या। ना*दा* -गुरू जी महाराज ! नगर तो नाराय़ण के आसरे से बहुत ही सुंदर है जो है सो, पर भिक्षा सुंदर मिलै तो बडा आनंद होय।

महंत –बच्चा गोरधन दास! तू पस्चिम की और जा और नाराय़ण दास पूरब की और जायेगा। देख, जो कुछ सीधा-सामग्री मिलै तो श्री सालग्राम जी का बालभोग सिद्ध हो ।

गोरधन दास - गुरू जी! मै बहुत सी भिच्छा लाता हूं। यहाँ लोग तो बडे मालवर दिखलाई पडते है। आप कुछ चिंता मत कीजिए।

महंत- बच्चा बहुत लोभ मत करणा। देखना, हाँ- लोभ पाप को मूल है, लोभ मिटावत मान। लोभ कभी नहीं कीजिए,यामैं नरक निदान॥

[गाते हुए सब जाते है]

दूसरा दृश्य (बाजार) 

कबाबवाला - कबाब गरमागरम मसालेदार-चौरासी मसाला बहत्तर आँच का-कबाब गरमागरम मसालेदार-खाए सो होंठ चाटै,ना खाए सो जीभ कांटै। कबाब लो, कबाब का ढेर- बेचा टके सेर

घासीराम - चने जोर गरम – चने बनावैं घासीराम। निज की झोली में दुकान।। चना चुरमुर चुरमुर बोले। बाबू खाने को मुँह खोले॥ चना खावै तौकी मैना। बोलै अच्छा बना चबैना॥ चना खायं गफूरन मुन्ना। बोलै और नहीं कुछ सुन्ना॥ चना खाते सब बंगाली। जिन की धोती ढीली ढाली॥ चना खाते मियां जुलाहे। डाढ़ी हिलती गाह बगाहे॥ चना हाकिम जो सब जो खाते। सब पे दूना टिकस लगाते॥ चने जोर गरम— टके सेर

नंरगीवाली - नंरगी ले नंरगी—सिलहट की नंरगी,बुटवल की नंरगी रामबाग की नंरगी, आन्नदबाग की नंरगी।भई नींबू से नंरगी।मैं तो पिय के रंग न रंगी।मैं तो भूली लेकर संगी। नंरगी ले नंरगी।कंवला नींबू,मीठा नींबू, रंगतरा, संगतरा। दोनों हाथों लो—नहीं तो पीछे हाथ ही मलते रहोगे।नंरगी ले नंरगी। ट्के सेर नंरगी

हलवाई –जलेबियां गरमा गरम। ले सेव इमरती लड्डू गुलाबजामुन खुरमा बुन्दिया बरफी समोसा पेडा कचौडी दालमोट पकौड़ी घेवर गुपचुप। हलुआ हलुआ ले हलुआ मोहनभोग। मायेनदान कचौड़ी कचाका हलुआ नरम चभाका। घी में गरक चीनी में तरातर चासनी में चभाचभ। ले भूरे का लड्डू। जो खाय सो भी पछताए जो न खाय सो भी पछताए। रेवडी कड़ाका। पापड़ पड़ाका। ऐसी जात हलवाई जिसके छत्तिस कौम हैं भाई। जैसे कलकत्ते के विलसन मंदिर के भितरिए, वैसे अंधेर नगरी के हम। सब समान ताजा।खाजा ले खाजा। टके सेर खाजा। 

कुजड़िन – ले धनिया मेथी सोआ पालक चौराई बथुआ करेमूँ नोनियाँ कुलफा कसारी चना सरसों का साग। मरसा ले मरसा। ले बैंगन लौआ कोहड़ा आलू अरूई        बंडा नेनुआँ सूरन रामतरोई तोरई मुरई ले आदी मिरचा लहसुन पियाज टिकोरा। ले फालसा खिरनी आम अमरूत निबुआ मटर होरहा। जैसे काजी वैसे पाजी। रैयत राजी टकेसेर भाजी। ले हिंदुस्तान का मेवा फूट और बैर। 

मुगल – बादम पिस्ते अखरोट अनार बिहीदाना मुनक्का किशमिश अंजीर आबजोश आलूबोखारा चिलगोजा सेव नाशपती बिही सरदा अंगूर का पिटारी। आमारा          ऐसा मुल्क जिसमें अंग्रेज़ का भी दाँत कट्टा ओ गया। नाहक को रूपया खराब किया। हिंदोस्तान का आदमी लक लक हमारे यहाँ का आदमी बुंबक बुंबक लो सब मेवा टके सेर

पाचकवाला- चूरन अमल बेद का भारी।जिसको खाते कृष्ण मुरारी।। मेरा पाचक है पचलोना।जिसको खाता श्याम सलोना।। चूरन बना मसालेदार। जिसमें खट्टे की बहार ।। मेरा चूरन जो कोइ खाय। मुझ को छोड कहीं नहिं जाय।। हिंदू चूरन इसका नाम। विलायत पूरन इसका काम ।। चूरन जब से हिंद में आया।इसका धन बल सभी घटाया । चूरन ऐसा हट्टा कट्टा। कीना दाँत सभी का खट्टा ।। चूरन चला डाल की मंडी। इस को खाएँगी सब रंडी ।। चूरन अमले सब जो खावैं, दूनी रुश्वत तुरत पचावैं ।। चूरन नाटकवाले सब जो खाते। इसकी नकल पचा कर लाते ।। चूरन सभी महाजन खाते जिससे जमा हजम कर जाते।।          चूरन खाते लाला लोग। जिन को अकिल अजीरन रोग॥ चूरन खावै एडिटर जात। जिन के पेट पचै नहिं बात । चूरन पूलिसवाले खाते । सब कानून हजम कर जाते । ।  ले चूरन का ढेर, बेचा टके सेर ॥ 

मछलीवाली- मछरी ले मछरी। मछरिया एक टके कै बिकाय। लाख टका के वाला जोबन, गांहक सब ललचाय। नैन मछरिया रूप जाल में, देखतही फंसि जाय। बिनु पानी मछरी सो बिरहिया, मिले बिना अकुलाय। \

जातवाला (ब्राह्मण)- जात ले जात, टके सेर जातएक टका दो, हम अभी अपनी जात बेचते हैंटके के वास्ते ब्राह्मण से धोबी हो जायं और धोबी को ब्राह्मण कर दे, टके के वास्ते जैसी कहो वैसी व्यवस्था देंटके के वास्ते झूठ को सच करैंटके के वास्ते ब्राहमण से मुसलमान, टके के वास्ते हिन्दू से क्रिस्तान। टके के वास्ते धर्म और प्रतिष्ठा दोनों बेचैं, टके के वास्ते झूठी गवाही दें। टके के वास्ते पाप को पुण्य़ मानैं, टके के वास्ते नीच को भी पितामह बनावैं। वेद धरम कुल मरजादा सचाई बड़ाई सब टके सेर। लुटाय दिया अनमोल माल टके सेर

बनियां- आटा दाल लकड़ी नमक घी चीनी मसाला ले टके सेर। (बाबा जी का चेला गोवर्धनदास आता है और सब बेचनेवालों की आवाज सुन सुन कर खाने के आनंद में बड़ा प्रसन्न होता है।)

गो*दास-क्यों भाई बणिये, आटा कितने सेर?

बनियां- टके सेर।

गो*दास-औ चावल?

बनियां-टके सेर।

गो*दास- औ चीनी?

बनियां-टके सेर।

गो*दास-औ घी?

बनियां - टके सेर।

गो*दास- सब टके सेर। सचमुच।

बनियां- हाँ महाराज, क्या झूठ बोलूंगा।

गो*दास (कुंजड़िन के पास जाकर) क्यों भाई, भाजी क्या भाव?

कुंजड़िन- बाबा जी टके सेर।निबुआ मुरई धनियां मिरचा साग सब टके सेर।

गो*दास- सब भाजी टके सेर। वाह वाह! बड़ा आनंद है। यहाँ सभी चीज टके सेर

(हलवाई के पास जाकर) क्यों भाई हलवाई? मिठाई कितणे सेर?

हलवाई- बाबाजी !लडुआ हलुआ जलेबी गुलाबजामुन खाजा सब टके सेर।

गो*दास- वाह!वाह!! बड़ा आनंद है? क्यौं बच्चा, मुझसे मसखरी तो नहीं करता? सचमुच सब टके सेर?

हलवाई- हाँ बाबाजी सब टके सेर। इस नगरी की चाल यही है। यहाँ सब चीज टके सेर बिकती है

गो*दास- क्यों बच्चा! इस नगरी का नाम क्या है?

हलवाई- अन्धेर नगरी।

गो*दास- और राजा का क्या नाम है?

हलवाई- चौपट्ट राजा

गो*दास- वाह!वाह! अन्धेर नगरी चौपट्ट राजा, टका सेर भाजी टका सेर खाजा (यही गाता है और आनंद से बगल बजाता है)

हलवाई- तो बाबाजी कुछ लेना देना हो तो लो दो।

गो*दास- बच्चा भिक्षा मांगकर सात पैसे लाया हूँ साढ़े तीन सेर मिठाई दे दे, गुरू चेले सब आनंदपूर्वक इतने में छक जांयगे। (हलवाई मिठाई तौलता है—बाबाजी मिठाई लेकर खाते हुए और अन्धेर नगरी गाते हुए जाते हैं) ।

(पटाक्षेप)

तीसरा दृश्य

(स्थान जंगल)

(महंत जी और नारायणदास एक और से राम भजो आदि गाते हुए आते हैं और एक ओर से गोवर्धनदास अन्धेर नगरी गाते हुए आता है)

महंत- बच्चा गोबर्धनदास! कह क्या भिक्षा लाया? गठरी तो भारी मालूम पड़ती है।

गो*दास - बाबा जी महाराज!बड़े माल लाया हूँ, साढ़े तीन सेर मिठाई है।

महंत- देखूं बच्चा! वाह वाह बच्चा! इतनी मिठाई कहाँ से लाया? किस धर्मात्मा से भेंट हो गयी?

गो*दास –गुरूजी महाराज! सात पैसे भीख में मिले थे उसी से इतनी मिठाई मोल ली है।

महंत- बच्चा! नारायण दास ने मुझसे कहा था कि यहाँ सब चीज टके सेर मिलती है तो, मैने इसकी बात पे विश्वास नही किया, जहाँ टके सेर ही भाजी और टके सेर ही खाजा है?

गो*दास- अन्धेर नगरी चौपट्ट राजा टके सेर भाजी टके सेर खाजा।

महंत- तो बच्चा ऐसी नगरी में रहना ठीक नहीं, जहाँ टके सेर भाजी टके सेर खाजा हो

दोहा

सेत सेत सब एक से, जहाँ कपूर कपास
ऐसे देस कुदेस में, कबहुँ कीजे बास।

कोकिल बायस एक सम,पंडित मूरख एक
इंद्रायन दाड़िम विषय, जहाँ नेकु विवेक।

बसिए ऐसे देन नहिं, कनक वृष्टि जो होय
रहिए तो दुख पाइए, प्रान दीजिए रोय।

सो बच्चा चलो यहाँ से। ऐसी अँधेर नगरी में मन भर मिठाई मु़फ्त की मिले तो किस काम की? यहाँ एक छन नहीं रहना।

गो.दा.- गुरुजी, ऐसा तो संसार भर में कोई देस ही नहीं है। दो पैसा पास रहने ही से मजे में पेट भरता है। मैं तो इस नगर को छोड़कर नहीं जाऊँगा। और जगह दिन भर माँगो तो भी पेट नहीं भरता। वरंच बाजे बाजे दिन उपास करना पड़ता है। सो मैं तो यहीं रहूँगा।

महंत-- देख बच्चा, पीछे पछताएगा।

गो.दा.- आपकी कृपा से कोई दुख न होगा, मैं तो यही कहता हूँ कि आप भी यहीं रहिए।

महंत- मैं तो इस नगर में अब एक क्षण भर नहीं रहूँगा। देख मेरी बात मान नहीं पीछे पछताएगा। मैं तो जाता हूँ, पर इतना कहे जाता हूँ कि कभी संकट पड़े तो हमारा स्मरण करना।

गो.दा.- प्रणाम गुरुजी, मैं आपका नित्य ही स्मरण करूँगा। मैं तो फिर भी कहता हूँ कि आप भी यहीं रहिए।

(महंत जी नारायणदास के साथ जाते हैं। गोवर्धनदास बैठकर मिठाई खाता है।

(पटाक्षेप)

चौथा दृश्य
(राजसभा)
(राजा, मन्त्री और नौकर लोग यथास्थान स्थित हैं)

1 सेवक : (चिल्लाकर) पान खाइए महाराज।
राजा : (पीनक से चैंक घबड़ाकर उठता है) क्या? सुपनखा आई ए महाराज। (भागता है)।
मन्त्री : (राजा का हाथ पकड़कर) नहीं नहीं, यह कहता है कि पान खाइए महाराज।
राजा : दुष्ट लुच्चा पाजी! नाहक हमको डरा दिया। मन्त्री इसको सौ कोडे लगैं।
मन्त्री : महाराज! इसका क्या दोष है? न तमोली पान लगाकर देता, न यह पुकारता।
राजा : अच्छा, तमोली को दो सौ कोड़े लगैं।
मन्त्री : पर महाराज, आप पान खाइए सुन कर थोडे ही डरे हैं, आप तो सुपनखा के नाम से डरे हैं, सुपनखा की सजा हो।
राजा : (घबड़ाकर) फिर वही नाम? मन्त्री तुम बड़े खराब आदमी हो। हम रानी से कह देंगे कि मन्त्री बेर बेर तुमको सौत बुलाने चाहता है। नौकर! नौकर! शराब।
2 नौकर : (एक सुराही में से एक गिलास में शराब उझल कर देता है।) लीजिए महाराज। पीजिए महाराज।
राजा : (मुँह बनाकर पीता है) और दे।
(नेपथ्य में-दुहाई है दुहाई-का शब्द होता है।)
कौन चिल्लाता है-पकड़ लाओ।
(दो नौकर एक फरियादी को पकड़ लाते हैं)
फ. : दोहाई है महाराज दोहाई है। हमारा न्याव होय।
राजा : चुप रहो। तुम्हारा न्याव यहाँ ऐसा होगा कि जैसा जम के यहाँ भी न होगा। बोलो क्या हुआ?
फ. : महाराजा कल्लू बनिया की दीवार गिर पड़ी सो मेरी बकरी उसके नीचे दब गई। दोहाई है महाराज न्याय हो।
राजा : (नौकर से) कल्लू बनिया की दीवार को अभी पकड़ लाओ।
मन्त्राी : महाराज, दीवार नहीं लाई जा सकती।
राजा : अच्छा, उसका भाई, लड़का, दोस्त, आशना जो हो उसको पकड़ लाओ।
मन्त्राी : महाराज! दीवार ईंट चूने की होती है, उसको भाई बेटा नहीं होता।
राजा : अच्छा कल्लू बनिये को पकड़ लाओ।
(नौकर लोग दौड़कर बाहर से बनिए को पकड़ लाते हैं) क्यों बे बनिए! इसकी लरकी, नहीं बरकी क्यों दबकर मर गई?
मन्त्री : बरकी नहीं महाराज, बकरी।
राजा : हाँ हाँ, बकरी क्यों मर गई-बोल, नहीं अभी फाँसी देता हूँ।
कल्लू : महाराज! मेरा कुछ दोष नहीं। कारीगर ने ऐसी दीवार बनाया कि गिर पड़ी।
राजा : अच्छा, इस मल्लू को छोड़ दो, कारीगर को पकड़ लाओ। (कल्लू जाता है, लोग कारीगर को पकड़ लाते हैं) क्यों बे कारीगर! इसकी बकरी किस तरह मर गई?
कारीगर : महाराज, मेरा कुछ कसूर नहीं, चूनेवाले ने ऐसा बोदा बनाया कि दीवार गिर पड़ी।
राजा : अच्छा, इस कारीगर को बुलाओ, नहीं नहीं निकालो, उस चूनेवाले को बुलाओ।
(कारीगर निकाला जाता है, चूनेवाला पकड़कर लाया जाता है) क्यों बे खैर सुपाड़ी चूनेवाले! इसकी कुबरी कैसे मर गई?
चूनेवाला : महाराज! मेरा कुछ दोष नहीं, भिश्ती ने चूने में पानी ढेर दे दिया, इसी से चूना कमजोर हो गया होगा।
राजा : अच्छा चुन्नीलाल को निकालो, भिश्ती को पकड़ो। (चूनेवाला निकाला जाता है भिश्ती, भिश्ती लाया जाता है) क्यों वे भिश्ती! गंगा जमुना की किश्ती! इतना पानी क्यों दिया कि इसकी बकरी गिर पड़ी और दीवार दब गई।
भिश्ती : महाराज! गुलाम का कोई कसूर नहीं, कस्साई ने मसक इतनी बड़ी बना दिया कि उसमें पानी जादे आ गया।
राजा : अच्छा, कस्साई को लाओ, भिश्ती निकालो।
(लोग भिश्ती को निकालते हैं और कस्साई को लाते हैं)
क्यौं बे कस्साई मशक ऐसी क्यौं बनाई कि दीवार लगाई बकरी दबाई?
कस्साई : महाराज! गड़ेरिया ने टके पर ऐसी बड़ी भेंड़ मेरे हाथ बेंची की उसकी मशक बड़ी बन गई।
राजा : अच्छा कस्साई को निकालो, गड़ेरिये को लाओ।
(कस्साई निकाला जाता है गंडे़रिया आता है)
क्यों बे ऊखपौड़े के गंडेरिया। ऐसी बड़ी भेड़ क्यौं बेचा कि बकरी मर गई?
गड़ेरिया : महाराज! उधर से कोतवाल साहब की सवारी आई, सो उस के देखने में मैंने छोटी बड़ी भेड़ का ख्याल नहीं किया, मेरा कुछ कसूर नहीं।
राजा : अच्छा, इस को निकालो, कोतवाल को अभी सरबमुहर पकड़ लाओ।
(गंड़ेरिया निकाला जाता है, कोतवाल पकड़ा जाता है) क्यौं बे कोतवाल! तैंने सवारी ऐसी धूम से क्यों निकाली कि गड़ेरिये ने घबड़ा कर बड़ी भेड़ बेचा, जिस से बकरी गिर कर कल्लू बनियाँ दब गया?
कोतवाल : महाराज महाराज! मैंने तो कोई कसूर नहीं किया, मैं तो शहर के इन्तजाम के वास्ते जाता था।
मंत्री : (आप ही आप) यह तो बड़ा गजब हुआ, ऐसा न हो कि बेवकूफ इस बात पर सारे नगर को फूँक दे या फाँसी दे। (कोतवाल से) यह नहीं, तुम ने ऐसे धूम से सवारी क्यौं निकाली?
राजा : हाँ हाँ, यह नहीं, तुम ने ऐसे धूम से सवारी कयों निकाली कि उस की बकरी दबी।
कोतवाल : महाराज महाराज
राजा : कुछ नहीं, महाराज महाराज ले जाओ, कोतवाल को अभी फाँसी दो। दरबार बरखास्त।
(लोग एक तरफ से कोतवाल को पकड़ कर ले जाते हैं, दूसरी ओर से मंत्री को पकड़ कर राजा जाते हैं)
(पटाक्षेप)

पांचवां दृश्य
(अरण्य)
(गोवर्धन दास गाते हुए आते हैं)
(राग काफी)

अंधेर नगरी अनबूझ राजा। टका सेर भाजी टका सेर खाजा॥
नीच ऊँच सब एकहि ऐसे। जैसे भड़ुए पंडित तैसे॥
कुल मरजाद न मान बड़ाई। सबैं एक से लोग लुगाई॥
जात पाँत पूछै नहिं कोई। हरि को भजे सो हरि को होई॥
वेश्या जोरू एक समाना। बकरी गऊ एक करि जाना॥
सांचे मारे मारे डाल। छली दुष्ट सिर चढ़ि चढ़ि बोलैं॥
प्रगट सभ्य अन्तर छलहारी। सोइ राजसभा बलभारी ॥
सांच कहैं ते पनही खावैं। झूठे बहुविधि पदवी पावै ॥
छलियन के एका के आगे। लाख कहौ एकहु नहिं लागे ॥
भीतर होइ मलिन की कारो। चहिये बाहर रंग चटकारो ॥
धर्म अधर्म एक दरसाई। राजा करै सो न्याव सदाई ॥
भीतर स्वाहा बाहर सादे। राज करहिं अमले अरु प्यादे ॥
अंधाधुंध मच्यौ सब देसा। मानहुँ राजा रहत बिदेसा ॥
गो द्विज श्रुति आदर नहिं होई। मानहुँ नृपति बिधर्मी कोई ॥
ऊँच नीच सब एकहि सारा। मानहुँ ब्रह्म ज्ञान बिस्तारा ॥
अंधेर नगरी अनबूझ राजा। टका सेर भाजी टका सेर खाजा ॥

गुरु जी ने हमको नाहक यहाँ रहने को मना किया था। माना कि देस बहुत बुरा है। पर अपना क्या? अपने किसी राजकाज में थोड़े हैं कि कुछ डर है, रोज मिठाई चाभना, मजे में आनन्द से राम-भजन करना।
(मिठाई खाता है)

(चार प्यादे चार ओर से आ कर उस को पकड़ लेते हैं)
1. प्या. : चल बे चल, बहुत मिठाई खा कर मुटाया है। आज पूरी हो गई।
2. प्या. : बाबा जी चलिए, नमोनारायण कीजिए।
गो. दा. : (घबड़ा कर) हैं! यह आफत कहाँ से आई! अरे भाई, मैंने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है जो मुझको पकड़ते हौ।
1. प्या. : आप ने बिगाड़ा है या बनाया है इस से क्या मतलब, अब चलिए। फाँसी चढ़िए।
गो. दा. : फाँसी। अरे बाप रे बाप फाँसी!! मैंने किस की जमा लूटी है कि मुझ को फाँसी! मैंने किस के प्राण मारे कि मुझ को फाँसी!
2. प्या. : आप बड़े मोटे हैं, इस वास्ते फाँसी होती है।
गो. दा. : मोटे होने से फाँसी? यह कहां का न्याय है! अरे, हंसी फकीरों से नहीं करनी होती।
1. प्या. : जब सूली चढ़ लीजिएगा तब मालूम होगा कि हंसी है कि सच। सीधी राह से चलते हौ कि घसीट कर ले चलें?
गो. दा. : अरे बाबा, क्यों बेकसूर का प्राण मारते हौ? भगवान के यहाँ क्या जवाब दोगे?
1. प्या. : भगवान् को जवाब राजा देगा। हम को क्या मतलब। हम तो हुक्मी बन्दे हैं।
गो. दा. : तब भी बाबा बात क्या है कि हम फकीर आदमी को नाहक फाँसी देते हौ?
1. प्या. : बात है कि कल कोतवाल को फाँसी का हुकुम हुआ था। जब फाँसी देने को उस को ले गए, तो फाँसी का फंदा बड़ा हुआ, क्योंकि कोतवाल साहब दुबले हैं। हम लोगों ने महाराज से अर्ज किया, इस पर हुक्म हुआ कि एक मोटा आदमी पकड़ कर फाँसी दे दो, क्योंकि बकरी मारने के अपराध में किसी न किसी की सजा होनी जरूर है, नहीं तो न्याव न होगा। इसी वास्ते तुम को ले जाते हैं कि कोतवाल के बदले तुमको फाँसी दें।
गो. दा. : तो क्या और कोई मोटा आदमी इस नगर भर में नहीं मिलता जो मुझ अनाथ फकीर को फाँसी देते हैं!
1. प्या. : इस में दो बात है-एक तो नगर भर में राजा के न्याव के डर से कोई मुटाता ही नहीं, दूसरे और किसी को पकड़ैं तो वह न जानैं क्या बात बनावै कि हमी लोगों के सिर कहीं न घहराय और फिर इस राज में साधु महात्मा इन्हीं लोगों की तो दुर्दशा है, इस से तुम्हीं को फाँसी देंगे।
गो. दा. : दुहाई परमेश्वर की, अरे मैं नाहक मारा जाता हूँ! अरे यहाँ बड़ा ही अन्धेर है, अरे गुरु जी महाराज का कहा मैंने न माना उस का फल मुझ को भोगना पड़ा। गुरु जी कहां हौ! आओ, मेरे प्राण बचाओ, अरे मैं बेअपराध मारा जाता हूँ गुरु जी गुरु जी-
(गोबर्धन दास चिल्लाता है, प्यादे लोग उस को पकड़ कर ले जाते हैं)
(पटाक्षेप)

छठा दृश्य
(स्थान श्मशान)
(गोबर्धन दास को पकड़े हुए चार सिपाहियों का प्रवेश)

गो. दा. : हाय बाप रे! मुझे बेकसूर ही फाँसी देते हैं। अरे भाइयो, कुछ तो धरम विचारो! अरे मुझ गरीब को फाँसी देकर तुम लोगों को क्या लाभ होगा? अरे मुझे छोड़ दो। हाय! हाय! (रोता है और छुड़ाने का यत्न करता है)
1 सिपाही : अबे, चुप रह-राजा का हुकुम भला नहीं टल सकता है? यह तेरा आखिरी दम है, राम का नाम ले-बेफाइदा क्यों शोर करता है? चुप रह-
गो. दा. : हाय! मैं ने गुरु जी का कहना न माना, उसी का यह फल है। गुरु जी ने कहा था कि ऐसे-नगर में न रहना चाहिए, यह मैंने न सुना! अरे! इस नगर का नाम ही अंधेरनगरी और राजा का नाम चौपट्ट है, तब बचने की कौन आशा है। अरे! इस नगर में ऐसा कोई धर्मात्मा नहीं है जो फकीर को बचावै। गुरु जी! कहाँ हौ? बचाओ-गुरुजी-गुरुजी-(रोता है, सिपाही लोग उसे घसीटते हुए ले चलते हैं)
(गुरु जी और नारायण दास आरोह)
गुरु. : अरे बच्चा गोबर्धन दास! तेरी यह क्या दशा है?
गो. दा. : (गुरु को हाथ जोड़कर) गुरु जी! दीवार के नीचे बकरी दब गई, सो इस के लिये मुझे फाँसी देते हैं, गुरु जी बचाओ।
गुरु. : अरे बच्चा! मैंने तो पहिले ही कहा था कि ऐसे नगर में रहना ठीक नहीं, तैंने मेरा कहना नहीं सुना।
गो. दा. : मैंने आप का कहा नहीं माना, उसी का यह फल मिला। आप के सिवा अब ऐसा कोई नहीं है जो रक्षा करै। मैं आप ही का हूँ, आप के सिवा और कोई नहीं (पैर पकड़ कर रोता है)।
महन्त : कोई चिन्ता नहीं, नारायण सब समर्थ है। (भौं चढ़ाकर सिपाहियों से) सुनो, मुझ को अपने शिष्य को अन्तिम उपदेश देने दो, तुम लोग तनिक किनारे हो जाओ, देखो मेरा कहना न मानोगे तो तुम्हारा भला न होगा।
सिपाही : नहीं महाराज, हम लोग हट जाते हैं। आप बेशक उपदेश कीजिए।
(सिपाही हट जाते हैं। गुरु जी चेले के कान में कुछ समझाते हैं)
गो. दा. : (प्रगट) तब तो गुरु जी हम अभी फाँसी चढ़ेंगे।
महन्त : नहीं बच्चा, मुझको चढ़ने दे।
गो. दा. : नहीं गुरु जी, हम फाँसी पड़ेंगे।
महन्त : नहीं बच्चा हम। इतना समझाया नहीं मानता, हम बूढ़े भए, हमको जाने दे।
गो. दा. : स्वर्ग जाने में बूढ़ा जवान क्या? आप तो सिद्ध हो, आपको गति अगति से क्या? मैं फाँसी चढूँगा।
(इसी प्रकार दोनों हुज्जत करते हैं-सिपाही लोग परस्पर चकित होते हैं)
1 सिपाही : भाई! यह क्या माजरा है, कुछ समझ में नहीं पड़ता।
2 सिपाही : हम भी नहीं समझ सकते हैं कि यह कैसा गबड़ा है।
(राजा, मंत्री कोतवाल आते हैं)
राजा : यह क्या गोलमाल है?
1 सिपाही : महाराज! चेला कहता है मैं फाँसी पड़ूंगा, गुरु कहता है मैं पड़ूंगा; कुछ मालूम नहीं पड़ता कि क्या बात है?
राजा : (गुरु से) बाबा जी! बोलो। काहे को आप फाँसी चढ़ते हैं?
महन्त : राजा! इस समय ऐसा साइत है कि जो मरेगा सीधा बैकुंठ जाएगा।
मंत्री : तब तो हमी फाँसी चढ़ेंगे।
गो. दा. : हम हम। हम को तो हुकुम है।
कोतवाल : हम लटकैंगे। हमारे सबब तो दीवार गिरी।
राजा : चुप रहो, सब लोग, राजा के आछत और कौन बैकुण्ठ जा सकता है। हमको फाँसी चढ़ाओ, जल्दी जल्दी।
महन्त :
जहाँ न धर्म न बुद्धि नहिं, नीति न सुजन समाज।
ते ऐसहि आपुहि नसे, जैसे चौपटराज॥

(राजा को लोग टिकठी पर खड़ा करते हैं)

(पटाक्षेप)
॥ इति ॥

 

 

 

 

 

 

Continue Reading

India of My Dreams – A Collection of Pronouncements by Sri Jayaprakash Narayan

In November 1979 my family gifted me a small pamphlet India of My Dreams – A Collection of Pronouncements by Sri Jayaprakash Narayan, published by The Ecumenical Christian Centre, Whitefield, Bangalore (1977), with Preface by Rev. M.A. Thomas, Director; for Rs.1.50.

This is an important pamphlet, compiling many of Loknayak JP's key sayings. However, time has gone by and the ECC itself seems not to have any copies of this booklet in its records (see its publications list here). This booklet is also not available on google.

I propose to scan and upload in the coming week/s – it being an important historical document for India. If anyone can point me to a PDF version that can save me time, I'd much appreciate it. The cover looks like the image, below.

 

 

 

Continue Reading

Michael Malgeri’s books for children on basic economics and liberty

Michael Malgeri contacted me today (in response to something I posted on Linkedin) and KK Verma kindly reviewed his work. Here are KK's comments, slightly truncated. I had a quick browse through a couple of previews of Malgeri's childrens' books linked below. Very enticing. I'll get them from Kindle, time permitting.
 
KK VERMA'S COMMENTS
In India, we have a long way to go as far as understanding the word "Free Economy" and Capitalism are concerned. As somebody in recent conference said, "we Indians are born socialism and have enough input on communism". Its all because of wrong contents in our text books from class one to Master Degrees.
 
Our education system teaches us outdated and irrelevant things. Unless we unlearn them, there is no possibility for us to move in constructive direction.
 
Yesterday I had to fight with [XXX] to get the meaning of capitalism. He appeared to be so ignorant on many basic issues of India and the world. Even if he is an financial guy, he is not aware about good economics. Its a tough journey.
 
Michael Malgeri's submission about capitalism even in 2013 to US Congress is praiseworthy  when America is all ahead in the world terms of growth, prosperity and innovation. He wrote in his email -
 
"I recently convinced a U.S. Congressman to submit a Congressional Resolution titled, "Expressing the sense of the House of Representatives regarding the superiority of Capitalism as an economic model." The bill is officially called House Resolution 422 or H.RES.422 for short."
 

I feel that his books, blogs and other written material could be good input to take the idea of "Free Economy" forward. This gentleman is almost like Ken Schoolland, a German author whose book in Hindi titled "Khule Bazar Ki Shair" was launched by Liberty Institute recently in Delhi.
 
His website on children blog are quite good, our young members can read them to get clear picture of capitalism in 21st century.  http://www.kids4biz.com

It will be good if we can tell people about these for in-depth study about capitalism.

Continue Reading